Inspirational Quotes (in Hindi) : Ashoka (the great Emperor of ancient India)

Inspirational Quotes (in Hindi) : Ashoka (the great Emperor of ancient India)

Inspirational Quotes (in Hindi) : Ashoka (the great Emperor of ancient India)

access_time 4 months ago chat_bubble_outline 0 comments
shareShare this post

हेलो, मेरे प्रिय दुनिया के तमाम पाठकों, दर्शकों, दोस्तों और छात्रों !  अशोक ( Ashoka)  प्राचीन भारत के एक महान शासक  सम्राट थे  ।भारत के राष्ट्रीय झंडे के बीच में जो पहिया दीखता है वह उन्ही के नाम से ‘अशोक चक्र’ रखा गया । वो प्राचीन भारत के कलिंग ( आधुनिक भारत के ओडिशा राज्य  ) क्षेत्र में एक भयानक लड़ाई लड़े थे, जिसमें लाखों लोग मर गए थे इस नरसंहार का दृश्य उनका मन बदल दिया था सच और शान्ति के खोज करते हुए वो आखिरकार बौद्ध धर्म को अपनाया था वो बौद्ध धर्म को भारत का राजधर्म बना दिया था विश्व में बौद्ध धर्म के विस्तार के लिए उन्होंने जबरदस्त प्रचाराभियान चलाया था आज एशिया के कोई देशों, जैसे की म्यांमार, थाईलैंड, कंबोडिया, जापान, चीन, वियतनाम, आदि  में, बौद्ध धर्म का जो बोलबाला दिखाई देता है, इसका श्रेयः उन्ही को जाता है सम्राट अशोक ( Ashoka, the gret Emperor)  के कुछ विचारों को पढ़िए, सोचिये, मज़ा लीजिये और अपने जीवन में भी यथासंभव उतारने का प्रयत्न कीजिये ।

अशोक (Quotes by Ashoka in Hindi)

  • सबसे महान जीत प्रेम की होती है, ये हमेशा के लिए दिल जीत लेती है।
  • हर धर्म में प्रेम, करुणा, और भलाई का पौष्टिक अन्तर्भाग ( wholesome core) है। बाहरी खोल में अंतर है, लेकिन भीतरी सार को महत्त्व दीजिये और कोई विवाद नहीं होगा। किसी चीज को दोष मत दीजिये, हर धर्म के सार को महत्त्व दीजिये और तब वास्तविक शांति और सद्भाव आएगा।
  • किसी को सिर्फ अपने धर्म का सम्मान और दूसरों के धर्म की निंदा नहीं करनी चाहिए।
  • विभिन्न कारणों से अन्य धर्मों का सम्मान करना चाहिए। ऐसा करने से आप अपने धर्म को विकसित करने में मदद करते हैं और दुसरे धर्मों को भी सेवा प्रदान करते हैं।
  • चलिए हम सब सुनते हैं, और दूसरों के द्वारा बताये गए सिद्धांतों ( doctrines) को सुनने के लिए तैयार रहते हैं।
  • वह जो अपने सम्प्रदाय की महिमा बढाने के इरादे से उसका आदर करता है और दूसरों के संप्रदाय को नीचा दिखाता है, ऐसे कृत्यों से वह अपने ही सम्प्रदाय को गंभीर चोट पहुँचाता है।
  • मैंने कुछ जानवरों और कई अन्य प्राणियों को मारने के खिलाफ कानून लागू किया है, लेकिन लोगों के बीच धर्म की सबसे बड़ी प्रगति जीवित प्राणियों को चोट न पहुंचाने और उन्हें मारने से बचने का उपदेश / परमार्श (exhortation) देने से आती है।
  • अन्य सम्प्रदायों की निंदा करना (decry) निषेध है; सच्चा भक्त उन सम्प्रदायों में जो कुछ भी सम्मान देने योग्य है उसे सम्मान देता है।
  • चीजों को आसान बनाने का मकसद से कोई भी समाज प्रगति नहीं कर सकता । बल्कि, लोगों को सशक्त बनाना ही उनका लक्ष्य होना चाहिए ।
  • ये सम्राट अशोक ही थे जिन्होंने हरेक नागरिक के लिए ‘घर मंदिर’ होना संभव किया था ।

 

तो, पाठकों, दर्शकों, दोस्तों, छात्रों ! मेरे द्वारा संकलित, सम्राट अशोक ( Ashoka, the gret Emperor)  के इन बचनों को पड़कर आप सब को कैसा लगा ? मुझे कमेंट (comment)के माध्यम से ज़रूर बताएं, अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को भी Facebook और अन्य social media के माध्यम से ज़रूर share करें  !

 

अंग्रेजी (English)में भी इन सब वचनों का एक अनुवाद  यहां क्लिक  करने पर उपलब्ध होगा I

 

धैर्यपूर्वक पढ़ने के लिए आप सबको अनेकों अनेक धन्यवाद  !

 

shareShare this post
folder_openAssigned tags
content_copyCategorized under

No Comments

comment No comments yet

You can be first to leave a comment

Submit an answer

info_outline

Your data will be safe!

Your e-mail address will not be published. Also other data will not be shared with third person.

eighteen + fourteen =