Inspirational Quotes (in Hindi) : Dr B. R. Ambedkar

Inspirational Quotes (in Hindi) : Dr B. R. Ambedkar

Inspirational Quotes (in Hindi) : Dr B. R. Ambedkar

access_time 2 years ago chat_bubble_outline 0 comments
shareShare this post
हेलो, मेरे प्रिय दुनिया के तमाम पाठकों, दर्शकों, दोस्तों और छात्रों ! बी आर अंबेडकर (B. R. Ambedkar), भारत के एक प्रमुख राजनीतिज्ञ (politician)और सामाजिक कार्यकर्ता (social activist) थे I उन्हें एक क्रांतिकारी नेता के रूप में देखा जाता है I बी आर अंबेडकर (B. R. Ambedkar) को भारतीय संविधान के जनक कहा जाता है I भारतीय संविधान उनके हीदिमागी बालिका (brainchild)’ है I भारत के कोई कोई इलाके में प्रचलित ‘अस्पृश्यता (untouchability)’ नाम के एक गंदा प्रथा के चलते उनको बहुत ही परेशानी झेलनी पडी थी I उनके कुछ महत्वपूर्ण विचारों को पढ़िए, अपने ज़िंदगी में यथासम्भव प्रयोग करिये, और अपनी ज़िंदगी में हमेशा सकारात्मक ऊर्जा का अनुभव करते रहिये I

बीआर.  अम्बेडकर (Quotes by Dr B R Ambedkar in Hindi):

  • हिंदू धर्म में,विवेक, कारण, और स्वतंत्र सोच के विकास के लिए कोई गुंजाइश नहीं  हैं I
  • आज भारतीय  दो  अलग -अलग  विचारधाराओं  द्वारा  शासित  हो  रहे  हैं  I उनके  राजनीतिक  आदर्श  जो  संविधान  के  प्रस्तावना  में  इंगित  हैं  वो  स्वतंत्रता  , समानता , और  भाई -चारे  को स्थापित  करते  हैं  I और  उनके  धर्म  में  समाहित  सामाजिक  आदर्श  इससे  इनकार  करते  हैं  I
  • मनुष्य नश्वर  है  I  उसी  तरह  विचार  भी  नश्वर  हैं  I  एक  विचार  को  प्रचार -प्रसार  की   ज़रुरत  होती  है , जैसे  कि  एक  पौधे  को  पानी  की  I नहीं  तो  दोनों  मुरझा  कर  मर  जाते हैं
  • राजनीतिक अत्याचार  सामाजिक  अत्याचार  की  तुलना  में  कुछ  भी  नहीं  है  और  एक  सुधारक  जो समाज  को  खारिज  कर  देता  है  वो   सरकार  को  ख़ारिज  कर  देने  वाले   राजनीतिज्ञ  से  कहीं अधिक  साहसी  हैं I
  • जब तक  आप  सामाजिक  स्वतंत्रता  नहीं  हांसिल  कर  लेते  , क़ानून  आपको  जो भी  स्वतंत्रता  देता  है  वो  आपके  किसी  काम  की  नहीं  I
  • पति- पत्नी के  बीच  का  सम्बन्ध   घनिष्ट  मित्रों  के  सम्बन्ध   के  सामान  होना  चाहिए  I
  • सागर में  मिलकर  अपनी  पहचान  खो  देने  वाली  पानी  की  एक  बूँद  के  विपरीत , इंसान  जिस  समाज  में  रहता  है  वहां  अपनी  पहचान  नहीं  खोता  I  इंसान  का  जीवन  स्वतंत्र  है  I  वो  सिर्फ  समाज  के  विकास  के  लिए  नहीं  पैदा  हुआ   है , बल्कि  स्वयं  के  विकास  के  लिए  पैदा  हुआ   है
  • एक महान  आदमी  एक  प्रतिष्ठित  आदमी  से  इस  तरह  से  अलग  होता  है  कि  वह  समाज  का  नौकर  बनने  को  तैयार  रहता  है  I

 

तो, पाठकों, दर्शकों, दोस्तों, छात्रों ! वास्तव जीवन  से जुड़ी हुई और मेरे द्वारा संकलित  बीआर.  अम्बेडकर (B. R. Ambedkar) के इन बचनों को पड़कर आप सब को कैसा लगा ? मुझे कमेंट (comment)के माध्यम से ज़रूर बताएं, अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को भी Facebook और अन्य social media के माध्यम से ज़रूर share करें  !

 

अंग्रेजी (English)में भी इन सब वचनों का एक अनुवाद   यहां क्लिक  करने पर उपलब्ध होगा I

 

धैर्यपूर्वक पढ़ने के लिए आप सबको अनेकों अनेक धन्यवाद  !

 

shareShare this post
folder_openAssigned tags
content_copyCategorized under

No Comments

comment No comments yet

You can be first to leave a comment

Submit an answer

info_outline

Your data will be safe!

Your e-mail address will not be published. Also other data will not be shared with third person.

11 + one =